Rajasthan Update
Rajasthan Update - पढ़ें भारत और दुनिया के ताजा हिंदी समाचार, बॉलीवुड, मनोरंजन और खेल जगत के रोचक समाचार. ब्रेकिंग न्यूज़, वीडियो, ऑडियो और फ़ीचर ताज़ा ख़बरें. Read latest News in Hindi.

जिला परिषद् चुनाव में ओला को पायलट खेमे में रहने का उठाना पड़ सकता है खामियाजा

ओला परिवार के प्रभाव में सदैव रही जिला प्रमुख की सीट, इस बार छिनने की तैयारी

झुंझुनूं (राजन चौधरी)। जिला परिषद पर लंबे समय से ओला परिवार का कब्जा रहा है। लेकिन इस बार आगामी जिला परिषद् के चुनाव को लेकर राजनैतिक चर्चा का विषय है कि क्या इस बार पुन: बृजेन्द्र ओला जिला प्रमुख की सीट पर कब्जा बरकरार रख पाएंगे या राजनैतिक प्रतिद्वंदी माने जाने वाली मंडावा विधायक रीटा चौधरी अपनी माताजी परमेश्वरी देवी को जिला प्रमुख बनाने में सफल होंगी। लॉकडाउन के बाद पंचायत चुनावों की चर्चा के समय से ही मंडावा विधायक रीटा चौधरी अपनी मां को जिला प्रमुख बनाने का सपना संजोने लग गई थी।

    इसके अलावा जिला प्रमुख बनाने में नवलगढ़ विधायक डॉ. राजकुमार शर्मा, उदयपुरवाटी विधायक राजेंद्र गुढ़ा, खेतड़ी विधायक डॉ. जितेंद्रसिंह व पिलानी विधायक जेपी चंदेलिया की भूमिका भी अहम रहेगी। ये चारों विधायक यदि रीटा चौधरी की मां को जिला प्रमुख बनाना चाहेंगे तो निश्चित रूप से जिला प्रमुख बनेगी। परमेश्वरी देवी स्व. रामनारायण चौधरी की पत्नी होने के कारण कांग्रेस की जिला प्रमुख पद की प्रबल दावेदार है। माना जा रहा है कि कांग्रेस का जिला प्रमुख बनता है तो कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष गोविंद डोटसरा व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की भी पहली पसंद हो सकती है। अशोक गहलोत व सचिन पायलट के राजनीतिक घटनाक्रम में जिले के पांच विधायक अशोक गहलोत के साथ थे, जबकि एक झुंझुनूं विधायक बृजेंद्र ओला सचिन पायलट के साथ थे। ऐसे स्थिति में माना जा रहा है कि बृजेन्द्र ओला समर्थित प्रत्याशी को जिला प्रमुख बनाये जाने की संभावना बहुत कम है। हालांकि टिकट बांटने के लिए लगाये गए प्रभारी विधायक इंद्राज गुर्जर पायलट समर्थक थे। लेकिन टिकट बांटने में प्रभारी इंद्राज गुर्जर की भूमिका मात्र डाक देने तक ही रही। क्योकि कांग्रेस का प्रदेश स्तर पर तय फार्मुले के अनुसार टिकट स्थानीय विधायक या प्रत्याशी रहे नेता के द्वारा ही टिकट दी गई है।

     कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि कांग्रेस का जिला प्रमुख बनना तय है, ऐसे स्थिति में रीटा चौधरी की मां को ही जिला प्रमुख बनाये जाने की संभावना ज्यादा है। कांग्रेस से वार्ड नंबर 4 से प्रत्याशी परमेश्वरी व वार्ड 35 से पूर्व जिला प्रमुख सुमन रायला में से ही किसी एक की जिला प्रमुख पद पर दावेदारी मानी जा रही है। वहीं भाजपा से सांसद नरेन्द्र कुमार की पुत्रवधु वार्ड नंबर 7 से हर्षिनी कुल्हरी चुनाव मैदान में है, यदि वे चुनाव जीत जाती है तो भाजपा से जिला प्रमुख की सबसे प्रबल दावेदार होगी। राजनीतिक प्रबुद्धजनों का मानना है कि कांग्रेस को जिला परिषद में 35 सीटों में से 25 से अधिक सीटों पर जीतने की संभावना है।

     राजनैतिक विशेषज्ञों के अनुसार जिला परिषद के वार्ड संख्या 4 से रीटा चौधरी की मां कांग्रेस प्रत्याशी है। वर्तमान स्थिति में उनकी जीत भी पक्की मानी जा रही है। इस प्रकार मंडावा क्षेत्र से चार जिला परिषद सदस्य निर्वाचित होने है, जिनमें राजनैतिक प्रबुद्धजनों के मुताबित चारों ही कांग्रेसी जीतने की संभावना अधिक है। इस बार कांग्रेस द्वारा स्थानीय विधायक या कांग्रेस प्रत्याशी के हिसाब से टिकट वितरण किया गया है। झुंझुनूं विधायक बृजेंद्र ओला ने जिला प्रमुख पद के लिए पूर्व जिला प्रमुख सुमन रायला को पुन: मैदान में उतारा है। वहीं विधायक ओला जिला प्रमुख बनाने के साथ-साथ अपने बेटे अमित ओला को चिड़ावा पंचायत समिति का प्रधान बनाकर राजनीति की प्रथम सीढ़ी पर चढ़ाने के प्रयास में है। जैसे स्व. शीशराम ओला ने बृजेन्द्र ओला को जिला प्रमुख बनाकर राज्य मंत्री तक बनवा दिया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.