Rajasthan Update
Best News For rajasthan

झुंझुनूं में निर्दलीय वार्ड पार्षदों की व्यापक खरीद-फरोख्त पर निर्भर रहेंगी सभापति की कुर्सी

सभापति की दौड़ में शहर के प्रमुख दस परिवार एंव परिजन लड़ रहे है वार्ड पार्षद का चुनाव

सांसद, पूर्व नगर परिषद् सभापति व पालिकाध्यक्ष के साथ उद्योग जगत से जुड़े लोग आए सामने

झुंझुनूं। जिले में तीन नगर निकायों के चुनाव आगामी 16 नवंबर को होने है, जिसमें नगर परिषद् झुंझुनूं, नगर पालिका बिसाऊ व पिलानी में चुनाव प्रचार की प्रक्रिया चरम पर है। हांलाकि झुंझुनूं नगर परिषद् के कुल 60 वार्डो में से कांग्रेस व भाजपा सभी वार्डो में अपने प्रत्याशी खड़े नही कर पाए, लेकिन सभी वार्डो में निर्दलीय प्रत्याशी चुनाव मैदान में बड़ी संख्या में डटे हुए है। नगर परिषद् के अधिकत्तर वार्डो में सीधा मुकाबला है, लेकिन कुछ वार्डो में त्रिकोणीय बना हुआ है। राजनैतिक सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस के 23 से 28 वार्ड पार्षद जीत कर आ सकते है, वहीं भाजपा के 13 से 19 वार्ड पार्षद जीतकर आने की संभावना बनी हुई है। ऐसी स्थिति में निर्दलीय वार्ड पार्षदों की स्थिति निर्णायक होंगी। माना जा रहा है कि नगर परिषद् सभापति बनने के लिए पार्षदों की खरीद फरोख्त वृहत स्तर पर होंगी। एक निर्दलीय वार्ड पार्षद का चुनाव लड़ रहे प्रत्याशी का कहना है कि गत नगर परिषद् चुनाव की तरह इस बार भी एक वार्ड पार्षद को कम से कम तीस लाख व अधिकत्तम 50 लाख रूपये तक मिलने की संभावना है। ऐसी स्थिति बनने के कारण करीब दस परिवारों के लोग दो से तीन वार्डो में अपने परिजनों व समर्थकों को खड़ा कर चुनावी मैदान में डटे हुए है। माना जा रहा है कि नगर परिषद् चुनाव में सभापति बनाने के लिए कांग्रेस से किसी मुस्लिम महिला को ही टिकट दी जाएगी। जिसमें पूर्व सभापति खालिद हुसैन की पत्नी वार्ड नंबर तीन से नाजिमा व पूर्व पालिकाध्यक्ष तैय्यब अली की पुत्रवधु नगमा वार्ड नंबर 40 से चुनावी मैदान में है। लेकिन इन मुस्लिम महिला के परिजन खरीद फिरोख्त में निर्दलीय पार्षदों के लिए कितना खर्च कर पाएगे, उस पर निर्भर करेंगा कि वह सभापति बन पाती है या नहीं।
दूसरी ओर भाजपा से भी करीब चार महिला प्रत्याशी वार्ड पार्षद का चुनाव लड़ रही है, जो सभापति की प्रत्याशी बनने का सपना संजोये हुए है। राजनैतिक प्रबुद्धजनों का मानना है कि इस बार सभापति सांसद नरेंद्र कुमार की पुत्री नीलम जो वार्ड नंबर 15 से भाजपा प्रत्याशी है, यदि जीतकर आती है तो निर्दलीयों के सहारे उनकी सभापति बनने की बहुत अधिक संभावनाएं है। तीसरे सभापति प्रत्याशी के रूप में आरआर अस्पताल ग्रुप से मानी जाने वाली वार्ड पांच से सुनीता रेवाड़ भी मजबूत दावेदार हो सकती है। इसके अलावा वार्ड नंबर सात से कांग्रेस प्रत्याशी पूर्व उपसभापति बिमला बेनीवाल को भी सभापति का दावेदार माना जा रहा है। साथ ही वार्ड नंबर 29 से सविता खंडेलिया भाजपा की टिकट से चुनाव मैदान में है, वह भी सभापति की दौड़ में शामिल है। वहीं सभापति की कुर्सी अपने पत्नी को दिलाने के लिए जिला कांग्रेस प्रवक्ता मुरारी सैनी अपनी पत्नी नीतू सैनी दोनों पार्षद बनकर चुनावी मैदान में सभापति की दौड़ में शामिल है। माना जा रहा है कि सभापति की दौड़ में शामिल सभी प्रत्याशियों में से सभापति वहीं बन पाएगा, जो निर्दलीय व पार्टी के पार्षदों को भी तीस से पचास लाख रूपये देकर अपने पाले में शामिल कर पाएगा। एक आंकलन यह भी है कि विशेष परिस्थिति में कुछ वार्ड पार्षदों का वोट सभापति के लिए पचास से 80 लाख रूपये तक भी जा सकता है। यह तो भविष्य के गर्भ में है कि सभापति कौन बनेगा, लेकिन यह तय है कि जो करोड़ों रूपये खर्च कर पार्षदों का वोट खरीदेगा वहीं सभापति बनेगा। कमोवेश यहीं स्थिति बिसाऊ व पिलानी नगर पालिका में मानी जा रही है, दोनों ही छोटी नगर पालिका में पार्षदों की खरीद फिरोख्त के लिए राजनैतिक सूत्रों के अनुसार पांच से दस लाख की रेट मानी जा रही है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More