Rajasthan Update
Best News For rajasthan

झुंझुनूं के ये तीन दिग्गज गहलोत की टीम में हो सकते है शामिल

झुंझुनूं के तीन विधायकों का मंत्रीमंडल में शामिल किया जाना तय

झुंझुनूं के बृजेंद्र ओला को मंत्री पद के साथ मिल सकती है बड़ी जिम्मेवारी

झुंझुनूं, 15 दिसंबर 2018। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पिछले कार्यकाल में झुंझुनूं जिले से चार मंत्री थे। इस बार भी जिले से तीन विधायक मंत्री पद के बड़े दावेदार सामने आ रहे है। झुंझुनूं जिले से जीते हुए चार कांग्रेसी विधायकों में से तीन विधायकों के मंत्री बनने की संभावना मानी जा रही है। राजनैतिक सूत्रों के अनुसार खेतड़ी विधायक व पूर्व काबिना मंत्री डॉ. जितेंद्रसिंह को वरिष्ठता के कारण एक बार फिर काबिना मंत्री बनाया जाना तय माना जा रहा है। वहीं नवलगढ़ से तीसरी बार चुनाव जीतकर आए पूर्व चिकित्सा राज्य मंत्री डॉ.राजकुमार शर्मा को भी मंत्री मंडल में शामिल किया जाना तय है। साथ ही झुंझुनूं से विधायक व पूर्व मंत्री बृजेंद्र ओला को भी काबिना मंत्री तो बनाया ही जाएगा। यह भी माना जा रहा है कि इस बार बृजेंद्र ओला को महत्वपूर्ण विभाग भी दिया जा सकता है। इसके अलावा प्रथम बार विधायक बने पूर्व भारतीय प्रशासनिक अधिकारी जेपी चंदेलिया को मंत्रीमंडल में शामिल करने की कोई संभावना नही मानी जा रही है, लेकिन महत्वपूर्ण जिम्मेवारी मिलने की कुछ संभावना है। सट्टा बाजार के अनुसार झुंझुनूं से तीन विधायकों का मंत्रीमंडल में आना तय माना जा रहा है। वहीं दो विधायकों को महत्वपूर्ण विभाग मिलने का भी सट्टा जगाया जा रहा है।

ये बड़े नेता हैं मंत्री पद के दावेदार:-

बृजेंद्र ओला- गहलोत के गत कार्यकाल में भी मंत्री रहे हैं। कद्दावर जाट नेता शीशराम ओला के पुत्र हैं और लगातार तीसरी बार विधायक पद पर जीते हैं गत बार कि मोदी लहर के बावजूद भी वे जीतने में सफल रहे थे। इस बार भी उन्होंने जिले में सबसे बड़ी जीत दर्ज करते हुए लगभग चालीस हजार वोटों भाजपा प्रत्याशी को परास्त किया है ऐसे मे जाट कोटे, अनुभव, निर्विवाद चेहरे के चलते उनका मंत्रिमंडल में आना लगभग तय नजर आ रहा है। दूसरी तरफ पायलट और गहलोत दोनों की ही गुड बुक में माना जाता है सचिन पायलट जब प्रदेश अध्यक्ष के रूप में राजस्थान आए तो बृजेंद्र ओला ने ही अपना बंगला उन्हें रहने के लिए दिया था।

राजकुमार शर्मा:-नवलगढ़ से राजकुमार शर्मा भी लगातार तीसरी बार जीते हैं। वे भी गहलोत की गत सरकार में मंत्री रहे थे और चिकित्सा मंत्री के रूप में उन्होंने बेहतरीन काम किया था। ऐसे भी ब्राह्मण कोटे, युवा और मंत्री के रूप में अनुभव करने के चलते वे भी मंत्री पद के बड़े दावेदार हैं। हालांकि उनके ऊपर हाल ही में मीटू का आरोप लग चुका है। इसके बाद भी जनता ने उन्हें नवलगढ़ से विधायक बना दिया है।

जितेंद्र सिंह:-खेतड़ी से विधायक जितेंद्र सिंह भले ही 957 वोट से ही जीतने में सफल रहे लेकिन वे काफी अनुभवी हैं। वे गहलोत की ही गत सरकार में भी मंत्री रह चुके हैं। जितेंद्र सिंह वर्तमान में कांग्रेस के जिला अध्यक्ष भी हैं। और उन्हें संगठन को एकजुट करने का इनाम दिया जा सकता है। हालांकि सचिन पायलट के उप मुख्यमंत्री बनने के बाद उनका दावा थोड़ा सा कमजोर हो गया है इसके बावजूद भी पश्चिमी राजस्थान से गुर्जर नेता को मंत्री पद मिलता है तो जितेंद्र सिंह की प्रबल संभावनाएं हैं।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More