Rajasthan Update
Best News For rajasthan

गैर भाजपाई व मूल भाजपाईयों की मंडावा उप चुनाव के लिए टिकट की दौड़ जारी…मूल भाजपा प्रत्याशी के रूप में पार्टी में पैदा हुई एकजूटता

पुत्र को टिकट नही मिलने की स्थिति में भाजपा सांसद खेल सकते है नरेश कृष्णिया पर दाव

झुंझुनूं। मंडावा विधानसभा उपचुनाव को लेकर राजनैतिक चर्चाओं का दौर पूरे चरम पर है। कांग्रेस की टिकट के प्रबल दावेदार पूर्व विधायक रीटा चौधरी व सत्यवीर कृष्णिया है। जिनमें आमजन की चर्चा व राजनैतिक सूत्रों के अनुसार माना जा रहा है कि पूर्व विधायक रीटा चौधरी की टिकट ही तय है। वहीं भाजपा की टिकट के 15 दावेदार है, जिनमें से 11 भाजपाई व चार गैर भाजपाई है। भाजपा की टिकट के लिए अलसीसर प्रधान गिरधारीलाल खीचड़, भाजपा युवा नेता राजेश बाबल, जाकिर झुंझुनूंवाला, बिमला चौधरी, संजय जांगिड़, बजरंगसिंह ख्याली, राजेंद्र ठेकेदार, सीताराम शर्मा, नरेंद्र मोगा व सरदार हरलालसिंह के पड़पौत्र अजयसिंह सहित वर्तमान सांसद नरेंद्र खीचड़ के पुत्र अतुल खीचड़ प्रमुख दावेदारों में से है।

राजनैतिक सूत्रों के अनुसार सबसे मजबूत प्रत्याशी वर्तमान सांसद नरेंद्र कुमार के पुत्र को ही माना जा रहा है। मंडावा विधानसभा के आमजन की चर्चा में एक ही बात रहती है कि कांग्रेस से रीटा चौधरी आती है तो, उन्हें कड़ी टक्कर देना वाला सबसे मजबूत प्रत्याशी सांसद पुत्र ही साबित हो सकता है। अन्य भाजपा की टिकट चाहने वाले 10 प्रत्याशियों के प्रति आमजन की चर्चा में यहीं है कि कांग्रेस प्रत्याशी के सामने टक्कर में ही नही आएंगे। ऐसी स्थिति में भाजपा के हाईकमान द्वारा गैर भाजपाईयों को टिकट देने के लिए तलाशना शुरू किया गया है।

भाजपा की टिकट की दौड़ में गैर भाजपाईयों में कांग्रेस से निष्कासित झुंझुनूं प्रधान सुशीला सीगड़ा, पूर्व उप जिला प्रमुख व स्व. रामनारायण चौधरी के पुत्र राजेंद्र चौधरी, जिला परिषद् सदस्य प्यारेलाल ढूकिया के नाम मुख्य रूप से सामने आ रहे है। गत एक सप्ताह से ठेकेदार नरेश कृष्णिया का नाम भी अचानक जनचर्चा में आया है। भाजपा के उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार भाजपा की टिकट गैर भाजपाईयों में से किसी को मिलती है तो झुंझुनूं प्रधान सुशीला सीगड़ा को सबसे मजबूत प्रत्याशी माना जा रहा है।

हालांकि भाजपा के राजनैतिक सूत्रों के अनुसार यह भी चर्चा आ रही है कि भावी कांग्रेस प्रत्याशी रीटा चौधरी के सामने भाजपा उनके बड़े भाई व पूर्व उप जिला प्रमुख राजेंद्र चौधरी को प्रत्याशी बना सकती है। इसके अलावा टिकट की दौड़ में जिला परिषद् सदस्य प्यारेलाल ढूकिया भी भाजपा के जिले से लेकर हाईकमान तक के पार्टी पदाधिकारियों से लगातार संपर्क कर रहे है। जब से नरेश कृष्णिया का नाम भाजपा की टिकट के लिए आना जनचर्चा में शुरू हुआ, उसके बाद मंडावा विधानसभा क्षेत्र के अधिकत्तर मतदाताओं का मानना है कि जिस तरह गत विधानसभा चुनाव में झुंझुनूं विधानसभा क्षेत्र से भाजपा ने राजेंद्र भांबू को टिकट दिया था, उसी तर्ज पर भाजपा नरेश कृष्णिया को भी टिकट दे सकती है।

राजनैतिक सूत्रों का कहना है कि सांसद पुत्र को अगर टिकट नही दी जाती है, ऐसी स्थिति में नरेश कृष्णिया सांसद की पहली पसंद हो सकते है। माना जा रहा है कि नरेश कृष्णिया को अगर सांसद टिकट दिलाने में मदद करते है तो, नरेश कृष्णिया चुनाव जीते या हारे, लेकिन आगे की राजनीति में किसी प्रकार की दखल-अंदाजी सांसद को नही करेंगे। भाजपा की टिकट के लिए प्रत्याशियों द्वारा दौड़ लगाई जा रही है, टिकट किसको मिलेगी यह तो वक्त ही बताएंगा, लेकिन गैर भाजपाईयों को टिकट मिलने की संभावना ने मूल भाजपाई एकजूट होकर टिकट की पैरवी करने लगे है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More